यजुर्वेद के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी

Important information about the Yajurveda in Hindi - यजुर्वेद के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी


  1. यजुर्वेद गद्य और पद्य  दोंनों रूप में लिखा गया हैै
  2. मुख्‍य रूप से यजुर्वेद के दो भाग हैं कृष्‍ण यजुर्वेद और शुक्‍ल यजुर्वेद
  3. कृृष्‍ण यजुर्वेद में मंत्र और उनकी व्‍याख्‍या है
  4. शुक्‍ल यजुर्वेद की संहिताओं को वाजसनेय भी कहा जाता है
  5. इसमें उत्‍तर वैैदिक युग की राजनीतिक, सामाजिक तथा धार्मिक जीवन की जानकारी मिलती है
  6. ये हिन्दू धर्म के चारों पवित्र प्रमुख ग्रन्थों में से एक है
  7. यजुर्वेद हिन्दू धर्म का एक महत्त्वपूर्ण श्रुति धर्मग्रन्थ और चार वेदों में से एक है
  8. इसमें यज्ञ की असल प्रक्रिया के लिये गद्य और पद्य मन्त्र हैं
  9. यजुर्वेद के पद्यात्मक मन्त्र ॠग्वेद या अथर्ववेद से लिये गये है
  10. यजुर्वेद में यज्ञों और हवनों के नियम और विधान हैं
  11. इसमें 40 अध्याय, 1875 कण्डिकाएँ तथा 3988 मन्त्र हैं
  12. विश्वविख्यात गायत्री मंत्र तथा महामृत्युञ्जय मन्त्र इसमें भी है
  13. संस्कारों एवं यज्ञीय कर्मकाण्डों के अधिकांश मन्त्र यजुर्वेद के ही हैं
Yajur Veda Facts in Hindi,



loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें