तुग़लक़ वंश (Tughlaq vansh) दिल्ली सल्तनत का एक राजवंश था जिसने सन 1320 से लेकर सन 1414 तक दिल्ली की सत्ता पर राज किया 1414 में तैमूर द्वारा दिल्ली पर आक्रमण के साथ ही तुग़लक़ साम्राज्य का अंत माना जाता है Learn about the Tughlaq dynasty in HIndi  - जानें तुुगलक वंश केे बारे में 

जानें तुुगलक वंश केे बारे में

Facts About Tughlaq Dynasty in Hindi - तुगलक वंश के बारे में तथ्य

  1. तुगलक वंश का संस्‍थापक गाजी मलिक या ग्‍यासुद्दीन तुगलक (Ghiyasuddin Tughlaq) था
  2. ग्‍यासुद्दीन तुगलक का संबध करौना जनजाति था
  3. गाली मलिक 8 सितम्‍बर 1320 ई० में ग्‍यासुद्दीन तुगलक शाह गाजी के नाम से गद्दी पर बैठा था
  4. पहली बार ग्‍यासुद्दीन तुगलक ने सिचाई के लिए कुऍ तथा नहरों का निर्माण कराया था
  5. ग्‍यासुद्दीन तुगलक दिल्‍ली का पहला सुल्‍तान था जिसने अपने नाम के साथ गाजी शब्‍द जाेेडा था
  6. तुगलकाबाद (Tuglakabad) नामक नगर की स्‍थापना ग्‍यासुद्दीन तुगलक ने कराई थी
  7. मार्च 1325 ई० को अफगान पुर में ग्‍यासुद्दीन तुगलक के लडके जूना खॉ द्वारा निर्मित लकडी के महल में सुल्‍तान के प्रवेश करते ही महल गिर गया और ग्‍यासुद्दीन तुगलक की मौत हो गई
  8. ग्‍यासुद्दीन तुगलक के बाद उसका बेेटा जूूना खॉ मुहम्‍मद विन तुगलक ने नाम से दिल्‍ली की गद्दी पर बैठा
  9. मुहम्‍मद विन तुगलक ने देवगिरी को अपनी राजधानी बनाया
  10. मुहम्‍मद बिन तुगलक (Muhammad bin Tughlaq) ने देवगिरी का नाम बदलकर दौलताबाद कर दिया था
  11. मुहम्‍मद विन तुगलक को इतिहास एक बुद्धिमान मूर्ख शासक के रूप में जाना जाता है
  12. मुहम्‍मद विन तुगलक ने अपने जीवन काल मे पॉच महत्‍वपूर्ण फैसलेे किये कर वृद्धि, राजधानी का स्‍थानान्‍तरण, सांकेतिक मुद्रा, खुरासान अभियान, करचिल अभियान थे
  13. 1333 ई० अफ्रीकी यात्री इब्‍नबतूूता मुहम्‍मद विन तुगलक के शासन काल में भारत आया था
  14. मुहम्‍मद विन तुगलक के शासन काल में दक्षिण में 1336 ई० में हरिहर एवं बुक्‍का नामक दो भाईयों ने विजयनगर राज्‍य की स्‍थापना की थी
  15. मुहम्‍मद विन तुगलक की मृत्‍युु थट्टा के निकट गौंडाल में 20 मार्च 1351 ई० को हुई थी
  16. मुहम्‍मद विन तुगलक की मृत्‍यु इतिहारकार बदायुंनी ने कहा था कि सुल्‍तान काे उसकी प्रजा और प्रजा को अपने सुल्‍तान से मुक्ति मिल गई
  17. मुहम्‍मद विन तुगलक के बाद उसका चचेरा भाई फिरोजशाह तुगलक 20 मार्च 1351 ई० को गद्दी पर बैठा था
  18. फिरोजशाह तुगलक (Feroz Shah Tughlaq) ने अपने शासन काल में प्रजा पर खराज, अशर, जकात, जलिया और खुम्‍स कर लगाये
  19. फिरोजशाह तुगलक ने हिसार, फिरोजाबाद, फतेहाबाद, जौनपुर, फिरोजपुर, अ‍ादि नगरों की स्‍थापना की थी
  20. फिरोजशाह तुगलक दिल्‍ली सल्‍तनत का प्रथन सुल्‍तान था जिसने ईस्‍लामी नियमों का कडाई से पालन करते हुऐ उमेेला वर्ग को प्रशासनिक कार्यो में महत्‍व दिया
  21. अलाउद्दीन खिलजी द्वारा समाप्‍त की गई प्रथा को फिरोजशाह तुगलक ने दुवारा से लागूू किया था
  22. फिरोजशाह तुगलक ब्राह्मण पर जजिया कर लागू करने वाला प्रथम मुस्‍लमान था
  23. फिरोजशाह तुगलक को एलिफिस्‍टन ने सल्‍तनत काल का अकबर कहा था
  24. फिरोजशाह तुगलक की मृृत्‍यु 80 बर्ष की अवस्‍था मेंं 20 सितम्‍बर 1388 को हुई थी
  25. फिरोजशाह तुगलक की मृृत्‍यु के बाद उसका पोता एवं फतेह खॉ का पुत्र तुगलक शाह सितम्‍बर 1388 ई० को गद्दी पर बैठा था
  26. तुगलकशाह गयासुद्दीन तुगलक द्वतीय के नाम से गद्दी पर बैठा था
  27. गयासुद्दीन तुगलक द्वतीय की हत्‍या उसकेे सरदारों की थी
  28. गयासुद्दीन तुगलक द्वतीय की हत्‍या के बार फिरोजशाह के पोते एवं जफर खॉ केे पुत्र अबुुबक्र को 19 फरबरी 1389 ई० में दिल्‍ली का सुल्‍तान बनाया गया था
  29. तुगलक काल के बारहखंंभा भवन को धर्मनिरपेक्ष इमारत कहा जाता है
Facts About India Tughlaq Dynasty, Foundations of Tughlaq Dynasty in India, The Tughlaq dynasty's 'pagla' sultan,


loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें