ओलंपिक खेल (Olympic Games) अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाला एक ऐसा विराट मेला होता है जिसमें दुनियॉ के प्राय: सभी देशों के खिलाडी भाग लेते हैं इसका आयोतन प्रत्येक चार वर्ष के अंतराल के बाद किया जाता है -

जानें कैसे और कब शुरूआत हुई ओ‍लंपिक खेेल की

Brief History of the Olympic Games in Hindi - जानें कैसे और कब शुरूआत हुई ओ‍लंपिक खेेल की

  1. सबसे पहला ओलंपिक खेल ओलम्पिया के ग्रीस में 776 ईसा पूर्व आयोजित हुआ था
  2. सन 393 तक इसे नियमित आयोजन का प्रमाण मिलता है
  3. ओलंपिक खेलों के जन्म दाता हीराक्लस को माना जाता है
  4. उन्होंने अपने पिता की याद में ओलंपिक स्टेडियम बनवाया था
  5. सन 1859 में ग्रीस की राजधानी एथेंस में ओलम्पिक खेलों का आयोजन पुन: आरंभ किया गया और इसे नाम दिया गया - आधुनिक ओलम्पिक खेल
  6. लेकिन यह ओलम्पिक खेल भी नियमित रूप से आयोजित नहीं हो सका
  7. इसके बाद सन 1894 में इंटरनेशनल ओलम्पिक संघ की स्थापना हुई
  8. इस संघ द्वारा सन 1896 में एथेंस, ग्रीस में विधिवत रूप से पहले आधुनिक ओलम्पिक खेलों का आयोजन किया गया
  9. पहला शीतकालीन ओलम्पिक सन 1924 में हुआ था
  10. इसमें 14 देशों के लगभग 241 खिलाडियों ने भाग लिया था
  11. इसके चार वर्ष के बाद फ्रॉस की राजधानी पेरिस में दूसरे आलम्पिक खेलों का आयोजन किया गया
  12. इस वर्ष इस खेल की खास बात यह थी कि इसमें पहली बार महिलाओं खिलाडियों ने भाग लिया था
  13. ओलम्पिक का ध्‍वज सफेेद रंग का होता है जिसमें पॉच छल्‍ले बने होतेे है इसमेेंं पॉचों गोले अगल-अगल महाद्वीपों को दर्शातेे हैं
  14. ओल‍म्पिक खेल की शुुरूआत से पहले एक मशाल जलाई जाती है जिस सूर्य की किरणों को लेन्‍स से गुजारकर जलाया जाता है
  15. खेेलों की शुरूआत होने से पहले मशाल काेे मेजवान शहर पहुॅचाया जाता है
  16. वर्ष 952 के ओस्लो ओलंपिक में मशाल ने पहली बार हवाई मार्ग से यात्रा की थी
  17. वर्ष 1956 के स्कॉटहोम ओलंपिक में घोड़े की पीठ पर शाल यात्रा सम्पन्न की गई थी
  18. वर्ष 1960 के रोम ओलंपिक में पहली बार मशाल यात्रा का टेलीविजन प्रसारण हुआ था
Origin and History of the Olympic Games, The Olympic Games - Facts & Summary, The Real Story of the Ancient Olympic Games, when did the olympic games start, Brief History of the Olympic Games


loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें