भारत में 7 अर्धसैनिक बल कार्य करते हैं और ये सभी बल भारतीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करते हैं तो आइये जानते हैं भारत के अर्धसैनिक बलों की सूची  - List of Paramilitary Forces of India

भारत के अर्धसैनिक बलों की सूची  - List of paramilitary forces of India

1. असम राइफल्‍स (Assam Rifles)

  • असम राइफल्‍स की स्‍थापना 1835 में हुई थी 
  • असम राइफल्‍स का मुख्‍यालय शिलॉग मेंं है
  • असम राइफल्‍स भारत-म्‍यांमार और भारत चीन सीमा की सुरक्षा करता है 
  • इसकी स्‍थापना लूटपाट करने वाली जनजातियों से ब्रिटिश बस्तियों और चाय के बागानों की सुरक्षा के लिए कैशर लेवी के नाम से हुई थी 
  • वर्ष 1883 में इसका नाम बदलकर फ्रण्टियर पुलिस इसके बाद 1891 में असम मिलिटरी पुलिस इसके बाद 1913 में ईस्‍ट बंगाल एण्‍ड असम मिलिटरी पुलिस तथा वर्ष 1971 में असम राइफल्‍स कर दिया गया
  • यह अर्धसैनिक बल गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता है 
  • वर्तमान में असम राइफल्‍स के 46 बटालियन हैं 
  • इसका आर्दश वाक्‍य "पहाडी लोगों का मित्र" है 

2. भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस (Indo-Tibetan Border Police-ITBP)


  • भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस की स्‍थापना 24 अक्‍टूबर 1962 को हुई थी
  • इसका मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में है
  • इसकी स्‍थापना भारत-तिब्बत सीमा की चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से रक्षा के लिए की गई थी 
  • तिब्‍बत स्थित कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील की यात्रा भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस के संरक्षण में होती है
  • इसका आर्दश वाक्‍य शौर्य-दृढता-कर्मनिष्‍ठा है
  • वर्तमान में इसमें 45 सेवा पलटनों और चार विशेषीकृत पलटनों कार्य करती हैं

3. सीमा सुरक्षा बल  (Border Security Force)

  • इसकी स्‍थापना 1 दिसम्‍बर 1965 को हुई थी 
  • इसका मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में स्थित है 
  • शुरूआत में इसका नाम विशेष सेवा ब्‍यूरो था 
  • यह विश्व का सबसे बड़ा सीमा रक्षक बल है
  • सीमा सुरक्षा बल का कार्य शांति के समय के दौरान भारत की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं पर निरंतर निगरानी रखना, भारत भूमि सीमा की रक्षा और अंतर्राष्ट्रीय अपराध को रोकना है
  • वर्तमान में सीमा सुरक्षा बल की 188 बटालियन है
  • इस बल का आदर्श वाक्य है - “जीवन पर्यन्त कर्तव्य”

4. सशस्‍त्र सीमा बल (Sashastra Seema Bal)

  • इसकी स्‍थापना 1963 में हुई थी 
  • इसका मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में स्थित है
  • इस बल का कार्य नेपाल और भूटान की सीमाओं की चौकसी करना है 
  • सबसे पहले महिला बटालियन को इसी बल में शामिल किया गया थ्‍ाा  
  • इस बल के पॉच फ्रण्टियर मुख्‍यालय पटना, लखनऊ, रानीखेत, सिलीगुडी, और गुवाहाटी में हैं 
  • इस बल का आर्दश वाक्‍य "सेवा, सुरक्षा और भाईचारा" है 

5. केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central reserve police force - CRPF)

  • केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल की स्‍थापना 27 जुलाई  1939 में हुई थी 
  • इसका मुख्‍यालाय नई दिल्‍ली में स्‍िथत है 
  • केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल का गठन मध्‍यप्रदेश के नीमच में क्राउन रिप्रेजेण्‍टेटिव पुलिस के नाम से हुई थी  
  • वर्ष 1949 में इसका नाम बदलकर केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल  कर दिया गया 
  • केन्‍द्रीय रिजर्व पुलिस बल की वर्तमान में 230 बटालियन हैं 
  • यह भारत का सबसे बडा अर्दसैनिक बल है 
  • इस बल का मुख्‍य कार्य सम्‍पूर्ण देश में कानून व्‍य‍वस्‍था कायम रखना और साथ ही उग्रवादी और आतंकवादी के खिलाफ अभियान चलाना है 

6. केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल - (Central Industrial Security Force - CISF)

  • केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल स्‍थापना 1969 में हुई थी 
  • इसका मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में है 
  • इस बल का मुख्य कार्य सरकारी कारखानो एवं अन्य सरकारी उपक्रमों को सुरक्षा प्रदान करना है
  • वर्तमान में यह बल दिल्‍ली मेट्रो रेल कॉर्पोशन विशिष्‍ट सुरक्षा प्रदान कर रहा है 
  • यह बल आपदा प्रबंधन बल के रूप में संयुक्‍त राष्‍ट के साथ मिलकर हैती में भी कार्य कर रहा है 

7. राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड - (National Security Guard - NSG)

  • राष्‍ट्रीय सुरक्षा गार्ड की स्‍थापना 1984 में हुई थी 
  • इसका मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में है
  •  इसका आर्दश वाक्‍य "सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा" है 
  • इस बल का गठन जर्मनी के GSG-9 एवं यूके के SAS की तर्ज पर किया गया था
  • इस बल के सदस्‍यों को ब्‍लैक कैट के नाम भी जाना जाता है 
  • इस बल का ट्रैनिंग सेंटर मानेसर में है 
  • राष्‍ट्रीय सुरक्षा गार्ड का इस्तेमाल वीआईपी की सुरक्षा के अलावा बड़े ऑपरेशंस को अंजाम देने में भी किया जाता है

Tag - Defense Forces and Paramilitary Forces of India, Central Armed Police Forces, Paramilitary Forces, strength of indian paramilitary forces


loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें