हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) पश्चिमी भारत में स्थित राज्य है। यह उत्तर में जम्मू और कश्मीर, पश्चिम तथा दक्षिण-पश्चिम में दक्षिण में हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), दक्षिण-पूर्व में उत्तराखंड तथा पूर्व में तिब्बत (Tibet) से घिरा है आइये जानते हैं हिमाचल प्रदेश के बारे और अधिक जानकारी -

हिमाचल प्रदेश एक नजर में -Brief Information of Himachal Pradesh in hindi

  1. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की स्थापना25 जनवरी, 1971 को हुई थी
  2. हिमाचल प्रदेश का शाब्दिक अर्थ "बर्फ़ीले पहाड़ों का प्रांत" है
  3. हिमाचल प्रदेश का क्षेञफल55,673 वर्ग किमी है
  4. प्रदेश में जिलों की संख्या 12 है
  5. यहाॅ के सबसे बडे शहर शिमला (Shimla), कुल्लू (Kullu), और कांगडा (Kangra) है
  6. यहॉ की प्रमुख फसलें गेहॅू, चावल, मक्का, दालें, चाय, व फल है
  7. प्रदेश का राजकीय पक्षी मोनाल है
  8. प्रदेश का राजकीय पशु कस्तूरी मृग है
  9. प्रदेश का राजकीय फूल कमल है
  10. प्रदेश का राजकीय पेड पीपल है
  11. प्रदेश में साक्षरता दर लगभग 83.78 प्रतिशत है
  12. हिमाचल प्रदेश का प्रमुख व्यवसाय कृषि है। कृषि राज्य की अर्थव्यवस्था में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है
  13. राज्य की प्रमुख भाषाओं में हिन्दी, काँगड़ी, पहाड़ी, पंजाबी और मंडियाली शामिल हैं
  14. हिमाचल प्रदेश में पांच नदियॉ बहती हैं
  15. हिमाचल प्रदेश में केवल विधानसभा है जिसकी सदस्य की संख्या 68 है यहॉ लोकसभा की 4 तथा राज्य सभा की 3 सीटें हैं
  16. हिमाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय की स्थापना 1971 में की गयी थी
  17. प्रदेश में सडकों की लम्बाई लगभग 36264 किमी है
  18. हिमाचल प्रदेश में दो राष्ट्रीय उद्यान ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (Great Himalayan National Park) और नेशनल पार्क पिन वैली (Pin Valley National Park) हैं
  19. हिमाचल प्रदेश में केवल दो रेल मार्ग पठान कोट-जोगिन्दर नगर और शिमला-कालका हैं
  20. यहॉ मनाये जाने वाले पर्वों में शिमला समर फेस्टिवल, लोहडी, होली, बसन्त पंचमी, शिवराञि, नलवारी फेयर, बैसाखी, प्रमुख हैं




loading...

Post a Comment

  1. please provide the current GK or HP in hindi.

    kanchankumarihp1994@gmail.com

    ReplyDelete

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें