विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमाओं की सूची


List of the World's highest statues in Hindi - विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमाओं की सूची

1. स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity)

भारत (India)

स्‍वतंत्रता सेनानी (freedom fighter) के एकीकृृत भारत के शिल्‍पकार और देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्‍लभभाई पटेल (Sardar Vallabh Bhai Patel) की यह प्रतिमा गुजरात (Gujarat) में अहमदाबाद (Ahmedabad) के नजदीक केवडिया में स्‍थापित की जा रही है करीब 2000 करोड रूपये की लागत से बनने वाली करीब 600 फीट ऊॅची यह प्रतिमा विश्‍व की सबसे ऊॅची प्रतिमा का स्‍थान लेगी 2017 तक इसकेे पूरा होने की संभावना है

2. स्प्रिंंग टेेपंल बुद्ध (Spring Temple Buddha)

चीन (China)

चीन (China) के हेनान प्रांंत केे झाओकुन कस्‍बे में स्‍थापित बुद्ध की यह प्रतिमा फिलहाल विश्‍व की सबसे ऊॅची प्रतिमा है इसे 2002 में 55 मिलियन डॉलर की लागत से बनाया गया था इसकी ऊॅचाई 420 फुट है

3. क्राइस्‍ट द रिडीमर (Christ the Redeemer)

ब्राजील (Brazil)

ब्राजील (Brazil) के रियो डी जेनेरियो (Rio de Janeiro) में स्‍थापित ईसा की यह प्रतिमा विश्‍व की सर्वाधिक विशालकाय कलात्‍मक प्रतिमा मानी जाती है इसका निर्माण 1933 में पूरा हुआ था यह प्रतिमा रियो डि जेनेरियो की पहचान बन गई है यह 30 मीटर (98 फीट) ऊॅची हैै इसे 8 मीटर ऊॅची चौकी पर स्‍थापित किया गया हैै इस प्रतिमा में ईसा की बाहें 28 मीटर (92 फीट) फैली हुई है यह तिजुका फॉरेस्‍ट नेशनल पार्क (Tijuca Forest National Park) 700 मीटर (2300 फीट ) ऊॅची कार्कोवेडो पहाड़ी (Carkovedo hill) पर स्थित हैै

4. वर्जिन ऑफ पीस (Virgin of Peace)

वेनेजुएला (Venezuela)

वेनेजुएला (Venezuela) के टुजिलो शहर केे बाहरी हिस्‍से में एक पहाडी पर स्‍थापित इस प्रतिमा के पास से पूरे टुुजिलो राज्‍य का सुन्‍दर द्रश्‍य देेखाा जा सकता हैै 1983 में इस 153 फीट ऊॅची प्रतिमा का लोकार्पण किया गया था इसकी अभिकल्‍पना मैन्‍युअल द ला फुटे (Manual de La Fute) ने की थी

5. स्‍टेच्‍यू ऑफ लिबर्टी (Statue of Liberty)

अमेरिका (America)

विश्‍व में सबसे ज्‍यादा पहचानी जाने वाली यह प्रतिमा फ्रांंस (France) ने अमेरिका (America) को भेंट की थी इसे आशा व आजादी का प्रतीका माना जााता हैै इसके वास्‍तुकार फ्रेडरिक अगस्‍त बार्थोल्‍डी (Frederic August Bartholdi) थे 28 अक्‍टूबर 1886 को इसे अमेरिकी जनता को दिया गया था 151 फीट ऊॅची इस प्रतिमा को फ्रांस में गाढा गया थ्‍ाा व पानी के जहाज से न्‍यूयॉर्क लाया गया था न्‍यूूयॉर्क बंंदरगाह के मध्‍य में लिबर्टी द्वीप पर स्‍थापित इस प्रतिमा को प्रति बर्ष 40 लाख लोग देखने आते है

6. पीटर द ग्रेट (Peter the Great)

रूस (Russia)

मास्‍को (Moscow) में क्रेमलिन के दक्षिण में 1997 में स्‍थापित इस प्रतिमा की अभिकल्‍पना व निर्माण जॉर्जिया के वास्‍तुकार जूदेव सेतेली (Judeo Seteli) ने किया था रूसी नौ सेना केे 300 साल पूरेे होने की याद में बनाया गया था यह स्‍मारक 321 फुट ऊॅचा है पीटर ने 1712 में सैैन्‍ट पीटर्सबर्ग को रूस की राजधानी बनाया था यह स्‍मारक एक विशालकाय फ्रिगेट (पोत) की आक्रति में हैै

7. द मदरलैंड स्‍टैच्‍यू (Statue of the Motherland )

रूस (Russia)

स्‍टालिनग्राद युद्ध के वीरों को समर्पित यह प्रतिमा रूस केे वाॅॅल्‍वोग्राद केे मामायेव कर्गान में स्‍थापित हैै इसे द मदरलैंड कॉल्‍स, मदर मदरलैंंड, मदर मदरलैंंड इज काॅॅलिंग या द मामायेव स्‍मारक भी कहा जाता है यह येवजेनी वुचेतिच और निकोलाइ निकितिन का संंयुक्‍त शिल्‍प है 15 अक्‍टूबर 1967 को इसका लोकार्पण किया गया था

8. सम्राट यान व हुआंग (Emperors Yan and Huang)

चीन (China)

सम्राटों यान व हुआंग यह 106 मीटर ऊॅची प्रतिमा विश्‍व की सबसे ऊॅची प्रतिमाओं में पांचवे स्‍थान पर गिनी जाती है इन प्रतिमाओं के निर्माण में 20 बषों का समय लगा था यह प्रतिमाऐं बर्ष 2007 में बनकर तैयार हो गई व इन्‍हें सार्वजनिक अवलोकन केे लिए खोला गया ये चीन के झेंंगझूू (Jenngjuu) में स्थित हैै

9. अफ्रीकी पुनर्जागरण का स्‍मारक (Monument of the African Renaissance)

सेनेगल (Senegal)

यह प्रतिमा सेनेगल (Senegal) की राजधानी डकार में स्‍थापित है यह 49 मीटर (161 फीट ) ऊॅची प्रतिमा स्‍टेच्‍यु ऑफ लिबर्टी से कुछ फीट ज्‍यादा बडी हैै यह सोवियत सामाजिक यथार्थवाद से प्रेरित हैै इसके वास्‍तुकार पियरे गाडिबी (Pierre Gadibi) है यह 27 मिलियन डॉलर की लागत से तैयार की गयी है यह प्रतिमा एक पहाडी पर बनाई गयी है


List of the highest statues, World's Tallest and Biggest Statues, largest statue on earth, Largest Statues in the World,



loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें