शेेर शाह सूरी मुगल वंश केे संस्‍थापक बाबर के लिए काम करने वाला एक सैैनिक था जिसने 1540 ई० में हुमायूॅ को हराकर सूरी साम्राज्‍य की स्‍थापना की थी आइये जानतेे हैं - Biography of Sher Shah Suri in Hindi - जानें कौन था शेर शाह सूरी  

जानें कौन था शेर शाह सूरी

information about Sher Shah Suri in Hindi - शेेरशाह सूरी के बारे में जानकारी

  1. शूर साम्राज्‍य का संंस्‍थापक अफगान वंशीय शेरशाह सूरी (Sher Shah Suri) था
  2. इसके बचपन का नाम फरीद खॉ (Fareed Khan) था
  3. शेरशाह का जन्‍म 1472 ई० में बजवाडा होशियारपुर में हुआ था
  4. इनके पिता हसन खॉ जौनपुर राज्‍य के सासाराम के जमींदार थे
  5. फरीद ने एक शेर को तलवार केे एक ही वार से मार दिया था
  6. इसलिए अफगान शासक सुल्‍तान मुहम्‍मद बहार खॉ लुहानी ने उसे शेेर खॉ की उपाधि प्रदान की थी
  7. 1539 ई० चौसा तथा 1540 ई० में बिलग्राम या कन्‍नौज की लडाई को जीतने के बाद शेेरशाह ने 1540 ई० में मुलग बादशाह हुमायॅू के बाद दिल्‍ली की गद्दी पर बैठा था
  8. शेर खॉ ने अपने राजतिलक के समय शेरशाह की उपाधि धारण की थी
  9. शेरशाह ने 1541 ई० में पटिलपुत्र को पटना नाम से पुन: स्‍थापित किया था
  10. शेरशाह ने 178 ग्रेन चॉदी का रूपया एवं 380 ग्रेन तावें केे दाम चलवाया
  11. शेरशाह ने रोहतास गढ के दुर्ग एवं कन्‍नौज के स्‍थान पर शेेरशूर नामक नगर बसाया
  12. शेरशाह ने भूमि की माप के लिए 32 अंक वाला सिकन्‍दरी गज एवं सन की डन्‍डी का प्रयोग किया
  13. कबुलित एवं पट्टा प्रथा की शुरूआत शेरशह ने की थी
  14. ग्राण्‍ड ट्रंक रोड (Grand Trunk Road) का निर्माण शेरशाह ने कराया था
  15. शेरशाह ने दिल्‍ली में एक दान के लंगर की स्‍थापना की थी
  16. डाक प्रथा का प्रचलन शेरशाह ने कराया था
  17. शेरशाह का उत्‍तराधिकारी उसका पुत्र इस्‍लाम शाह था
  18. शेरशाह की मृत्‍यु 22 मई 1545 ई० को कालिंजर के दुर्ग में अचानक बारूद के विस्‍फोट होनेे से हुई थी
Sher Shah Suri in Hindi, Sher Shah Suri Biography, History and Facts, sher shah suri death, battle between humayun and sher shah suri, sersha suri history, sher shah suri tomb history in hindi, History of Sher Shah Suri Archives, 



loading...

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें