अभिमन्‍यु भारद्वाज 3:18:00 AM A+ A- Print Email
जानें क्‍या हैं अगस्ता वेस्‍टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला - Know what is Agustawestlandhelicopter scandal - दसअसल वर्ष 2010 में युपीए सरकार ने एंग्लो-इतालवी कंपनी अगस्ता-वेस्टलैंड से 12 वीवीआईआई हेलिकॉप्टर खरीरने का सौदा किया था जो डील 3600 करोड में करार हुई थी लेकिन इस डील में 360 करोड की रिश्‍वत का मामला सामने आया जिसके बाद यूपीए सरकार ने सौदा रद्द कर दिया था तो आइये जानें क्‍या हैं अगस्ता वेस्‍टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला - Know what is Agustawestland helicopter scandal

जानें क्‍या हैं अगस्ता वेस्‍टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला - Know what is Agustawestland helicopter scandal

  • दरअसल वर्ष 1999 में अटल विहारी वाजपेयी जी की सरकार ने वीवीआईआई लोगों के लिए हैलिकॉप्टर खरीदने की बात कही थी
  • वीवीआईआई लोगों आने जाने के लिए एयरफोर्स के MI-8 हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल करते थे जो पुराने हो चुके थे
  • हेलिकॉप्टर खरीदने के लिए मार्च 2002 में सरकार ने टेंडर डाला और दुनियाभर की कई कंपनियों ने टेंडर भरा
  • इसके बाद 2004 में वाजपेयी सरकार के जाने के बाद 2005 में मनमोहन सिंह सरकार में हेलिकॉप्टर खरीदीने की प्रक्रिया फिर से शुरू की यह प्रक्रिया 2010 में जाकर पूरी हुई
  • लेकिन इस डील में इस करार में 360 करोड़ रुपये के कमीशन के भुगतान का आरोप लगा
  • आरोप लगने के बाद भारत सरकार ने भारतीय वायुसेना को दिए जाने वाले 12 एडब्ल्यू-101 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की सप्लाई के करार पर फरवरी 2013 में रोक लगा दी थी
  • इटली की जांच एजेंसियों ने फरवरी 2012 में कहा अगस्टा वेस्टलैंड की पैरेंट कंपनी फिनमैकेनिका ने डील हासिल करने के लिए भारत के कुछ नेताओं और अधिकारियों को रिश्वत दी है
  • इसके बाद फरवरी 2013 में अगस्टा वेस्टलैंड की पैरेंट कंपनी फिनमकेनिका के सीईओ ब्रूनो स्पैगनोलिनी को इटली की पुलिस गिरफ्तार कर लिया
  • इसके बाद सीबीआई ने भारत में 11 लोगों के खिलाफ जांच शुरू की थी
  • इस जॉच में पूर्व इंडियन एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी समेत 12 के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई
  • डील होने के बाद 3 हेलीकॉप्‍टरों को भारत भेज दिया गया था जो आज भी दिल्‍ली के पालम एयरबेस पर खडे हैं


Tag - VVIP chopper scam, What is AgustaWestland chopper deal, agustawestland manufacture,

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें