अभिमन्‍यु भारद्वाज 4:11:00 AM A+ A- Print Email
जानें देश के पहले मकड़ालय के बारे में - Know about the india first arecanarium - भारत सरकार ने उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान (Tropical Forest Research Institute) जबलपुर में देश का पहला मकडालय बनाया है यहॉ आकर न केवल आप दूर-दूर से मकड़ियों को देख सकते हैंं बल्कि उनके साथ फोटोग्राफी कराने का आनंद भी उठा सकते हैंं तो आइये जानें देश के पहले मकड़ालय के बारे में - Know about the india first arecanarium

जानें देश के पहले मकड़ालय के बारे में - Know about the india first arecanarium

यह भी पढें - जानें क्‍या है करतारपुर कॉरीडोर

  • इस मकड़ालय में 150 तरह की मकड़ीयॉ रखी गई हैं
  • यहां पेड़-पौधों के पत्तों पर, घास के तिनकों पर, चट्टानों पर.. यहां-वहां-जहां-तहां, चारों ओर अलग-अलग रंग-रूप और आकार-प्रकार की मकड़ियां दिखाई देती हैं
  • 20 साल की मेहनत के बाद डॉ.सुमित चक्रवर्ती ने देश के अलग-अलग हिस्सों से इन प्रजातियों को जुटाया है
  • डॉ. सुमित चक्रवर्ती के अनुसार इन मकड़ीयों के जहर से कई दवाइयॉ बनाई जा सकती हैं
  • यहॉ मकड़ालय में पहले एक लैब बनाया गया है जहां मकड़ियों की ब्रीडिंग और पहचान का कार्य किया जाता है
  • यह मकड़ालय स्कूल-कॉलेज के स्टूडेंट्स के साथ अन्य लोगों के लिए भी खोला गया है
  • दुनियाॅॅ भर में मकड़ियों की लगभग 46572 प्रजातियां पाई जाती हैं
  • भारत में 1500 प्रजातियों की मकड़ि‍यां पाई जाती हैं
  • मकड़ियों की लंबाई 0.5 मिलीमीटर से लेकर 7 इंच तक हो सकती है
  • इनका वजन लगभग 0.2 ग्राम से 50 ग्राम तक हो सकता है
  • एक मकड़ी के आठ पैर, आठ आंखें और पेट के आठ भाग होते हैं
  • पूरी दुनिया में अभी तक लगभग 100 लोगों की मौत मकड़ी के काटने से हो चुकी हैं
  • मकड़ियों में नेफिला कुहली प्रजाति की जायंट वुड स्पाइडर के जाले से अमेरिका में सेना के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट तक बनाई गई है



Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें