अभिमन्‍यु भारद्वाज 9:36:00 PM A+ A- Print Email
जानें क्‍या है धारा 370 - Know what is section 370 - मोदी सरकार ने हाल ही में जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) को लेकर एतिहासिक फैसला लेते हुए राज्यसभा में कश्मीर आरक्षण संशोधन बिल पेश कर दिया । इस बिल के तहत अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया गया पर क्‍या आप जानते हैं क्‍या है धारा 370 अगर नहीं तो आइये जानें क्‍या है धारा 370 - Know what is section 370

जानें धारा 370 के बारे में - Know about Section 370

  • इस धारा के तहत जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती थी
  • जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रध्वज भी अलग था
  • जम्मू - कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 वर्षों का होता था जबकी भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है
  • जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रध्वज अलग था वहां के नागरिकों द्वारा भारत के राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान करना अनिवार्य नहीं था
  • भारत के उच्चतम न्यायलय के आदेश जम्मू - कश्मीर के अन्दर मान्य नहीं होते थे
  • इसी विशेष दर्जे के कारण जम्मू-कश्मीर राज्य पर संविधान की धारा 356 लागू नहीं होती थी
  • भारत की संसद को जम्मू - कश्मीर के सम्बन्ध में अत्यंत सीमित क्षेत्र में कानून बना सकती थे
  • जम्मू कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से विवाह कर ले तो उस महिला की नागरिकता समाप्त हो जाती थी
  • इसके विपरीत यदि वह पकिस्तान के किसी व्यक्ति से विवाह कर ले तो उसे भी जम्मू - कश्मीर की नागरिकता मिल जाती थी
  • अनुच्‍छेद 370 की वजह से कश्मीर में RTI लागू नहीं था और न ही CAG लागू था
  • कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू था
  • कश्मीर में अल्पसंख्यको (हिन्दू- सिख) को 16 % आरक्षण नहीं मिलता था
  • आरटिकल 370 की वजह से कश्मीर में बाहर के लोग जमीन नहीं खरीद सकते थे
  • धारा 370 (Article 370 ) की वजह से ही पाकिस्तानियो को भी भारतीय नागरीकता मिल जाता थी इसके लिए पाकिस्तानियोंं को केवल किसी कश्मीरी लड़की से शादी करनी होती थी
Tag - Article 370 of the Constitution of India, article 370 explanation, article 370 explanation, important information about section 370, facts about Article 370,

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें