अभिमन्‍यु भारद्वाज 4:07:00 AM A+ A- Print Email
राजस्‍थान क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बडा राज्‍य है जिसकी राजधानी जयपुर है अब तक इस राज्‍य के मुख्‍यमंत्री के रूप में 22 लोग कार्य कर चुके हैं तो आइये जानते हैं राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्रियों की सूची – Chief Ministers of Rajasthan in Hindi

राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्रियों की सूची – Chief Ministers of Rajasthan in Hindi


यह भी पढें - राजस्‍थान एक नजर में 





































































































































क्र.सं.मुख्‍यमंत्री कार्यकाल
1हीरालाल शास्‍त्री7 अप्रैल 1949 - 5 जनवरी 1951
2सी.एस.वेंकटधारी5 जनवरी 1951 - 26 अप्रैल 1951
3जयनारायण व्‍यास26 अप्रैल 1951 - 3 मार्च 1952
4टीकाराम पालीवाल 3 मार्च 1952 - 31 अक्‍टूबर 1952
5जयनारायण व्‍यास31 अक्‍टूबर 1952 - 13 नवम्‍बर 1954
6मोहन लाल सुखाडिया13 नवम्‍बर 1954 - 9 जुलाई 1971
7बरकतुल्‍ला खॉ9 जुलाई 1971 - 11 अक्‍टूबर 1973
-राष्ट्रपति शासन11 अक्‍टूबर 1973 - 23 अक्‍टूबर 1973
8हरिदेव जोशी23 अक्‍टूबर 1973 - 29 अप्रैल 1977
9भैरोसिंह शेखावत29 अप्रैल 1977 - 16 फरवरी 1980
-राष्ट्रपति शासन16 फरवरी 1980 - 6 जून 1980
10जगन्‍नाथ पहाडिया6 जून 1980  - 12 जुलााई 1981
11शिवचरण माथुर12 जुलााई 1981  - 23 फरवरी 1985
12हिरालाल देवपुरा23 फरवरी 1985 - 10 मार्च 1985
13हरिदेव जोशी10 मार्च 1985 - 18 जनवरी 1988
14शिवचरण माथुर18 जनवरी 1988 - 20 नवम्‍बर 1989
15हरिदेव जोशी20 नवम्‍बर 1989 - 4 मार्च 1990
16भैरोसिंह शेखावत4 मार्च 1990 - 15 दिसम्‍बर 1992
-राष्ट्रपति शासन15 दिसम्‍बर 1992 - 4 दिसम्‍बर 1993
17भैरोसिंह शेखावत4 दिसम्‍बर 1993 - 1 दिसम्‍बर 1998
18अशोक गहलोत1 दिसम्‍बर 1998 - 8 दिसम्‍बर 2003
19वसुंधरा राजे सिंधिया8 दिसम्‍बर 2003 - 11 दिसम्‍बर 2008
20अशोक गहलोत11 दिसम्‍बर 2008 - 13 दिसम्‍बर 2013
21वसुंधरा राजे सिंधिया13 दिसम्‍बर 2013 -  16 दिसम्‍बर 2018
22अशोक गहलोत17 दिसम्‍बर 2018 -  अब तक

Tag - List of Chief Ministers of Rajasthan, List of Chief Ministers of Rajasthan Since 1949 Till Date, Chief Ministers of Rajasthan 1949 to 2018

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें