अभिमन्‍यु भारद्वाज 7:03:00 PM A+ A- Print Email
जानें क्‍या है निपाह वायरस - Know about what is Nipah virus in Hindi - अभी भारत कोरोना से उभर नही पाया कि केरल में निपाह वायरस के कारण लोग मौत की चपेट में आ रहे हैं निपाह वायरस का इंफेक्‍शन कभी भी एक महामारी की तरह फैल सकता है केरल सरकार ने इसके चलते हाई अर्लट जारी कर दिया है तो आइये जानें क्‍या है निपाह वायरस - Know about what is Nipah virus in Hindi

जानें क्‍या है निपाह वायरस - Know about what is Nipah virus in Hindi


जानें क्‍या है निपाह वायरस - Know about what is Nipah virus in Hindi

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार निपाह एक नई उभरती बीमारी है नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे ने तीन नमूनों में निपाह वायरस की उपस्थिति की पुष्टि की है इस वायरस को 'निपाह वायरस एन्सेफलाइटिस' भी कहा जाता है इस वायरस को सबसे पहली बार 1998 में मलेशिया के कांपुंग सुंगई निपाह में इसके मामले सामने आए थे जब यह सूअरों और मनुष्यों में बीमारी का कारण बना था इसके बाद 2004 में यह निपाह वायरस का मामला बांग्लादेश में भी सामने आया था विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन का ऐसा मानना है कि खजूर की खेती करने वाले लोग इस वायरस की चपेेट में जल्‍दी आ जाते हैंं यह वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है इसे रोकने के लिये संक्रमित रोगी से दूरी बनाए रखें मई, 2018 में केरल में सबसे पहले निपाह वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी

निपाह वायरस के लक्षण - Symptoms of Nipah virus

निपाह वायरस में 5 से 14 दिन तक इसकी चपेट में आने के बाद ये वायरस तीन से 14 दिन तक तेज़ बुख़ार और सिरदर्द की वजह बन सकता है ये लक्षण 24-48 घंटों में मरीज़ को कोमा में पहुंचा सकते हैं. इंफ़ेक्शन के शुरुआती दौर में सांस लेने में समस्या होती है जबकि आधे मरीज़ों में न्यूरोलॉजिकल दिक्कतें भी होती हैं साल 1998-99 में जब ये बीमारी फैली थी तो इस वायरस की चपेट में 265 लोग आए थे. अस्पतालों में भर्ती हुए इनमें से क़रीब 40% मरीज़ ऐसे थे जिन्हें गंभीर नर्वस बीमारी हुई थी और ये बच नहीं पाए थे
  • ब्रेन में सूजन
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • चक्‍कर
  • मानसिक भ्रम
  • सांस संबंधित समस्‍या
  • कोमा आदि
Tag - Nipah virus, nipah virus pdf, 

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें