अभिमन्‍यु भारद्वाज 4:23:00 PM A+ A- Print Email
भारत सरकार ने कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए 3 अप्रैल को आरोग्‍य सेतु नाम का ऐप लॉन्‍च किया और कहा ये ऐप आपको कोरोना संक्रमित होने से बचा सकता है हो सकता है कि आपने अपने फोन में इसे इंटॉल भी कर रखा होगा लेकिन बहुत ही कम लोग ऐसे हैं जो इस ऐप के बारे में जानते हैं कि ये ऐप कैसे काम करता है तो आइये जानते हैं क्‍या है आरोग्‍य सेतु ऐप और ये कैसे काम करता है - What is Arogya Setu App and how it works

क्‍या है आरोग्‍य सेतु ऐप और ये कैसे काम करता है - What is Arogya Setu App and how it works

कोरोना वायरस के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए और उस वायरस से लोगों को बचाने के लिए भारत सरकार ने राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र द्वारा विकसित एक COVID -19 ट्रैकिंग मोबाइल एप्लिकेशन को शुरू किया है जो भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आता है आरोग्‍य सेतु नाम का यह ऐप अब तक 5 करोड से भी ज्‍यादा लोगों द्वारा इंटॉल किया जा चुका है यह ऐप प्रत्येक भारतीय के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए डिजिटल इंडिया से जुड़ा है सरकार की ओर से जारी नोटिफिकेशन में यह भी कहा गया है कि ये ऐप यूजर्स की निजता को ध्यान में रखकर बनाया गया है सबसे पहली महत्वपूर्ण बात तो यह है कि आरोग्य सेतु ऐप सभी लोगों की मदद करेगा इसमें कई ऐसे फंक्शंस दिए हुए हैं, जिसके जरिए आपको पता चल सकता है कि आपके आसपास कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति तो नहीं है, क्योंकि इस ऐप में उन सभी लोगों का डाटा एकत्र किया जाता है, जो लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हैं

ये ऐप आपको फोन के ब्‍लूटूथ और लोकेशन के माध्‍यम से जानकारी एकत्रित करता है एप तभी काम करता है जब आप अपने मोबाइल नंबर को रजिस्‍टर करते हैं और ओटीपी से उसे वेरिफाई करते हैं. एक वैकल्पिक फॉर्म भी आता है जो नाम, उम्र, पेशा और पिछले 30 दिनों के दौरान विदेश यात्रा के बारे में पूछता है

एप हरे और पीले रंग के कोडों में आपके जोखिम के स्‍तर को दिखाता है. यह भी सुझाव देता है कि आपको क्‍या करना चाहिए. अगर आपको ग्रीन में दिखाया जाता है और बताया जाता है कि 'आप सुरक्षित हैं' तो कोई खतरा नहीं है अगर आपको पीले रंग में दिखाया जाता है और टेक्‍स्‍ट बताता है कि 'आपको बहुत जोखिम है' तो आपको हेल्‍पलाइन में संपर्क करना चाहिए इस ऐप में सभी राज्‍यों को हेल्‍पलाइन नंबर भी दीये हुऐ हैं

यह आपकी लोकेशन और ब्लूटूथ का इस्तेमाल कर यह जांचता रहता है कि आपके आसपास कोई संक्रमित व्यक्ति या संभावित संक्रमित तो नहीं है। साथ ही संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने की आशंका के बारे में अलर्ट/नोटिफिकेशन भी देता है। इसके लिए आपको मोबाइल में बैकग्राउंड में ऐप हमेशा चालू रखना होगा, साथ ही ब्लूटूथ और लोकेशन भी ऑन रखनी होगी साथ ही आपके संपर्क में आने वाले व्‍यक्ति के मोवाइल में ये ऐप होना चाहिए

इस एप्लीकेशन में आपको कुल 11 भाषाओं का सपोर्ट मिल रहा है जो इसे इस्तेमाल करने में काफी सरल बना देता है हम आपसे यही कहना चाहेंगे कि भारत सरकार का साथ देते हुए हैं इस एप्लिकेशन को डाउनलोड करें और कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में भारत सरकार का साथ दें और अपने परिवार को इस महामारी बीमारी से बचाएं।

अब इस ऐप के माध्‍यम से आप ई पास के लिए भी ऐप्‍लाई कर सकते हैं और अगर आप अपने घर से कहीं बाहर जा रहे हैं तो आपके फोन में आरोग्‍य सेतु ऐप का होना अनिवार्य है साथ अगर कभी किसी हॉटस्‍पॉट ऐरिया से गुजर रहे हैं तो भी ये ऐप को नोटिफिकेशन के माध्‍यम से सूचित करेगा

नीति आयोग सीईओ अमिताभ कांत ने ट्विटर पर लिखा है कि भारत कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के मामले में लीड कर रहा है. आरोग्य सेतु ऐप का डिजायन सुरक्षित है और करोड़ों के लिए मददगार साबित होगा. विश्व बैंक ने भी इस ऐप की तारीफ की है. संस्था का कहना है कि पूर्वी एशिया में डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल कर कोरोना के संक्रमितों तलाशा जा रहा है. इस तकनीक के जरिए उन्हें भी पहचाना जा सकता है जिनमें लक्षण दिखाई दे रहे हैं लेकिन उन्होंने टेस्ट नहीं करवाया है. भारत ने इसी तरह का एक ऐप आरोग्य सेतु बनाया है.

Tag - All about the Aarogya Setu App, How to use Aarogya Setu App, Arogya Setu app, How to use Aarogya Setu app, Aarogya Setu


Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें