अभिमन्‍यु भारद्वाज 1:21:00 AM A+ A- Print Email
जानें भजन गायक विनोद अग्रवाल जी के बारे में - biography of Bhajan Singer Vinod Agarwal - जब कहीं भी भजनोंं की बात होती है उनमें विनोद अग्रवाल जी के भजनों की बात होना तो स्‍वाभा‍विक है क्‍योंकि विनोद अग्रवाल जी एक प्रसिद्ध भजन गायक हैं तो आइये जानते हैं जानें भजन गायक विनोद अग्रवाल जी के बारे में - biography of Bhajan Singer Vinod Aggarwal

जानें भजन गायक विनोद अग्रवाल जी के बारे में - biography of Bhajan Singer Vinod Aggarwal

  • विनोद अग्रवाल जी का जन्‍म 6 जून 1955 को दिल्ली में हुआ था
  • इनके पिता का नाम श्री किशन दास और माता का नाम रतनी देवी अग्रवाल था
  • अग्रवाल जी 1962 में 7 साल की उम्र में माता-पिता और भाई-बहनों के साथ वह दिल्ली से मुंबई चले गए थे
  • इनकी भजनों के प्रति रूचि वचपन से ही थी
  • इन्‍होंने 12 वर्ष की आयु में भजन गाना और हार्मोनियम बजाना सीख लिया था
  • इनका विवाह 11 दिसंबर 1975 में 20 वर्ष की अवस्‍था में कुसुम लता जी से हो गया था
  • इनके दो बच्‍चे वेटा जतिन और वेटी शिखा हैं
  • विनोद जी ने 1979 में अपने गुरु श्री मुकुंद हरि जी महाराज से दीक्षा ली थी
  • उनके गुरु की इच्छा थी कि विनोद अग्रवाल जी सारी दुनिया में हरि नाम का प्रचार करे
  • अपने गुरु की इसी इच्छा को अपने जीवन का लक्ष्य बनाकर विनोद जी ने देश के अनेक राज्यों के विभिन्न शहरों में अनगिनत प्रस्तुतियां दी थीं
  • अग्रवाल जी ने भारत के साथ-साथ यू.के., इटली, सिंगापुर, स्विटजरलैंड, फ्रांस, कनाडा, जर्मनी, आयरलैंड, थाईलैंड, दुबई, नेपाल जैसे दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कई सफल कार्यक्रम किये थे
  • इनकी रिकॉर्डिंग बिना किसी रिटेक के सीधे रिकॉर्ड होती थी
  • इन्‍होंने देश-विदेश में 1500 से ज्यादा लाइव परफॉर्मेंस दिए थे
  • विनोद अग्रवाल के लीवर में इंफेक्शन की शिकायत होने के बाद उन्हें 5 अक्‍टूूूूबर की शाम नयति मेडीसिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था
  • जहां उन्होंने 6 नवम्‍बर मंगलवार को सुबह 4 बजे अंतिम सांस ली

Tag - Vinod Aggarwal, Vinod Agarwal (Singer) Age, Death, Wife, Family, Biography, vinod agarwal date of birth, vinod agarwal biography in hindi,

Post a Comment

यह बेवसाइट आपकी सुविधा के लिये बनाई गयी है, हम इसके बारे में आपसे उचित राय की अपेक्षा रखते हैं, कमेंट करते समय किसी भ्‍ाी प्रकार की अभ्रद्र भाषा का प्रयोग न करें